SOIL HEALTH CARD  GOVERNMENT OF RAJASTHAN

 
 

Soil Health Card or SHC as it is popularly known to many is designed with perspectives of soil fertility management with a focus on fertilizer use for crop productivity.Soil is a resource (capital) for which there is no substitute.Fertilizers are not a substitute for part or whole of soil fertility. Crop production essentially relies on traditional practices of soilwater and energy management with no adverse effects on the health of the plant, soil and environment; except for sporadic natural calamities.The soil health card lists the outcome of tests conducted on a soil sample and provides space to rate the soils of the region after the tests. By maintaining data of the tests a record of soil health may be built thus facilitatingthe effect of management practices on soil health.Maintaining soil health the short term will undoubtedly increase the sustainability of farming in the future.


मिट्टी की स्थिति दर्शाने वाले दस्तावेज को मृदा स्वास्थ्य कार्ड के रूप में जाना जाता है. यह कार्ड मिट्टी और मिट्टी की उर्वरता प्रबंधन के रखरखाव के लिए शुरू किया गया है. मुख्य लक्ष्य उर्वरक और उत्पादकता के बीच बेहतर सामंजस्य बैठाना है. उर्वरक वहीं शामिल किया जाये जहां इसकी आवश्यकता है, ना कि बेहिसाब। इसके अविवेकपूर्ण उप्योग से जहां एक और कृषक को आर्थिक रूप से भार पड़ता है वहीं दूसरी ओर मिट्टी भी खराब हो सकती है, फसल के रूप मे नुक्सान तो होता ही है फसल उत्पादन पारंपरिक प्रथाओं के रखरखाव पर निर्भर करता है. मृदा स्वास्थ्य कार्ड, और एक मिट्टी के नमूने परीक्षण के परिणाम से खेत की उत्पादकता और विकल्प के रूप में बेहतर सुझाव देने की स्थिति बनते है। विभिन्न परिणामों को समूहों में वर्गीकृत किया जा सकता है. मृदा परीक्षण के परिणाम मिट्टी के स्वास्थ्य का एक संयोजन के माध्यम से दर्ज किया जा सकता है. मिट्टी स्वास्थ्य पर प्रबंधन प्रथाओं के प्रभाव दर्शाता है, जिसे आप आसानी से समझ सकते हैं. उनमें से एक निश्चित रूप से मिट्टी के स्वास्थ्य की सुरक्षा के माध्यम से कृषि का भविष्य है स्थिरता बढ़ा जा सकता है.
System Developed & Hosted by National Informatics Centre Rajasthan State Unit - Jaipur
Nodal Officer : Smt. Sudha Singh (ACP, Dy. Dir.)
AgrisNet Helpdesk No: +91-141-5110463, IP: 27098
Site is best Viewed in Google Chrome 70.0 & Mozilla Firefox 63.0